आखिर क्यों चढाया जाता है गणेश भगवान को सिंदूर, 99 % लोग है इस सच से अनजान

हमारे भारत देश में कईं धर्मों के लोग रहते हैं. इनमे से अधिकतर लोग हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते हैं. इसी धर्म में भगवान गणेश जी अर्थात गणपति जी को सबसे अधिक मान्यता हासिल है. ऐसा कहा जाता है कि जो भी भक्त गणेश जी की भक्ति सच्चे मन से करते हैं, उन पर भगवान स्वयं अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखते हैं. भारत के लगभग हर शहर और गाँव में गणपति जी का मंदिर स्थापित किया गया है जहाँ सुबह शाम आरती और पूजा की जाती है. लाखों भक्त हर रोज़ गणपति जी को सिन्दूर चढ़ाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि गणपति जी को सिन्दूर आखिर क्यों अर्पित किया जाता है?

दरअसल, गणेश भगवान को सिन्दूर चढ़ाने के पीछे लोगों की कईं मान्यताएं हैं. ऐसा माना जाता है कि गणेश भगवान इससे प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों को बुरी नजर से बचाए रखते हैं. इसके इलावा सिन्दूर को पूजा के लिए बेहद शुभ माना जाता है. यह मंगल एवं शांति का प्रतीक होता है जोकि गणेश जी को अति प्रिय है. आज के इस खास लेख में हम आपको गणेश भगवान पर सिन्दूर चढाने के कुछ अहम कारण बताने जा रहे हैं जिन्हें आप में से अधिकतर लोग नहीं जानते होंगे. तो आईये जानते हैं आखिर क्यूँ भगवान गणपति को सिन्दूर चढाया जाता है.

सिन्दूर के पीछे की कहानी

शिवपुराण में लिखे एक श्लोक के अनुसार जब भगवान भोलेनाथ ने गणेश जी का सिर काट दिया था तो उसके पश्चात उन पर हाथी का सिर लगा दिया गया था. जब भोलेनाथ गणेश जी को सिर लगा रहे थे तो उस पर पहले से ही सिन्दूर का लेपन हो रहा था जिसे देख कर माँ पार्वती ने कहा कि आज से मनुष्य उसी सिन्दूर से सदैव गणेश जी की पूजा किया करेंगे. तब से लेकर आज तक विघ्नहर्ता गणेश जी का विलेपन सिन्दूर से होता आ रहा है.

गणेश पुराण के अनुसार सिन्दूर है अति शुभ

शिव पुराण के इलावा यदि आप गणेश पुराण के बारे में जानते हैं तो वहां भी आपको सिन्दूर के कईं मायने समझने को मिलेंगे. गणेश पुराण के श्लोक ‘ ममर्द सिन्‍दुरं तं स कराभ्‍यां बलवत्‍तरम्। ततस्‍तदसृजांगानि विलिलिम्‍पारुणेन स:।। तत: सिन्‍दूरवदन: सिन्‍दूरप्रिय एव च। अभवज्‍जगतिख्‍यातो भक्‍तकामप्रपपूरक:।।’ के अनुसार गणेश जी ने सिन्दूर नाम दैत्य का मर्दन अपने हाथों से स्वयं किया था. इसके पश्चात उन्होंने उसके खून को अपने शरीर पर लगा लिया था. इसके बाद से ही उन्हें सिन्दूरवदन और सिन्दूरप्रिय कह कर बुलाया जाने लगा था.

बुरी शक्तियों से मिलेगा छुटकारा

पुराणों में लिखित श्लोकों के अनुसार सिन्दूर देवी देवताओं को सबसे अधिक प्रिय था.शायद यही कारण है जो आज भी लोग पूजा पाठ ख़ास कर गणेश पूजन के समय सिन्दूर का विलेपन आवश्य करते हैं. मान्यता के अनुसार गणेश जी को सिन्दूर चढाने से बुरी शक्तियों से छुटकारा पाया जा सकता है. इसके इलावा यदि आप बुधवार के दिन उन्हें सिन्दूर अर्पित करेंगे तो वह आपसे अति शीघ्र प्रसन्न हो कर आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी कर सकते हैं.

 

 

 

Updated: September 15, 2019 — 8:44 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *